अखण्ड साधना, भक्ति और पुरुषार्थ से ही जीवन स्वर्ग बनेगा : पूज्य स्वामी जी महाराज

अखण्ड साधना, भक्ति और पुरुषार्थ से ही जीवन स्वर्ग बनेगा : पूज्य स्वामी जी महाराज

27 मई, भीलवाड़ा (राजस्थान)। योगऋषि परम पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज ने भीलवाड़ा, राजस्थान में आयोजित योग एवं ध्यान शिविर में कहा कि योग एक विज्ञान है। आत्म चेतना, आत्मशक्ति एवं स्वयं को जागृत करता है। योग सभी प्रकार के ज्ञान का मूल है। हमने देश में स्वदेशी की एक बहुत बड़ी जागृति पैदा की है। इसी कारण भारतीय लोगों ने विदेशी प्रोडक्ट के बजाय अपने देश में बने प्रोडक्ट को खरीदना ज्यादा उचित समझा है। देश में आयुर्वेद के महत्व को हम लगातार दर्शा व पहुंचा रहे हैं। योग प्राणायाम के माध्यम से करोड़ों लोग निरोगी हो रहे हैं। मेरा सपना है कि देश से गरीबी दूर हो। लोग आयुर्वेदिक उत्पाद व स्वदेशी अपनाकर देश की इकोनॉमी बढ़ाएं। परम पूज्य स्वामी जी महाराज त्रिदिवसीय योग चिकित्सा एवं ध्यान शिविर के समापन पर हजारों लोगों को योग का अभ्यास कराते हुए संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन सूर्योदय के बाद धूप-सेवन सभी को अनिवार्य रूप से अवश्य करना चाहिए। एक घण्टा ऐसे करने से विटामिन-डी की कमी दूर होगी और प्रोटीन सहित अन्य आवश्यक तत्वों की प्राप्ति होकर शरीर भी निरोगी बनेगा। गौ-माता की नियमित सेवा करें एवं आप सभी को गाय से प्राप्त हर वस्तु का नियमित उपयोग करें। योग उपासना को हमारी दिनचर्या में शामिल करें। योग करेंगे तो जीवन में रोग के लिए जगह नहीं रहेगी। योग से पसीना बहाओ, इससे निरोगता प्राप्त होगी। प्रत्येक व्यक्ति अखण्ड साधना करें, भगवान की भक्ति करें व पुरुषार्थ करें, इसी से जीवन स्वर्ग बनेगा। उन्होंने कहा कि योगासन एवं प्राणायाम से हमें कई रोगों से मुक्ति मिलती है। योग एवं आयुर्वेद से हम हाई ब्लड प्रेशर शुगर मोटापा, किडनी, लीवर, फेफड़े आदि के रोगों से निश्चित रूप से मुक्ति पा सकते हैं। समापन सत्र के शिविर में पूज्य आचार्य लोकेश मुनी जी, महावीर चैधरी, राजेंद्र कुमार गोखरू, महावीर बावेल, सुरेन्द्र सुराणा, प्रकाश सुराणा, महेन्द्रसिंह राठौड, भेरूलाल जागेटिया, प्रवीण जैन, संपत चपलोत मुम्बई, नारायण लड्ढा, अशोक कोठारी, जगदीश जोशी, रेनू जागेटिया, राजेश जी आदि मंचासीन रहे। शिविर में हरिद्वार से पधारे स्वामी परमार्थदेव जी, स्वामी आदित्यदेव, स्वामी ऋतदेव, आचार्य डॉ. संजय जी, स्वामी विजयदेव जी के साथ ही राजस्थान मध्य प्रांत के अध्यक्ष गोविंद प्रसाद सोडाणी, शिविर सचिव भूपेंद्र मोगरा जी, रजनीकांत आचार्य, कैलाश डाड, विक्रम आंजना, विनोद भाई सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं मौजूद रहे।

20

Advertisment

Latest News

परम पूज्य योग-ऋषि श्रद्धेय स्वामी जी महाराज की शाश्वत प्रज्ञा से निःसृत शाश्वत सत्य... परम पूज्य योग-ऋषि श्रद्धेय स्वामी जी महाराज की शाश्वत प्रज्ञा से निःसृत शाश्वत सत्य...
ओ३म योग धर्म व सनाधर्म का मर्म इस बार के योग दिवस को हमने युग के लिए योग-योगा फोर यूनिवर्स...
9वें अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर पूज्य स्वामी रामदेव जी महाराज ने 20 हजार योग साधकों के साथ दिया 'योग सबके लिए’ का संदेश
अन्तराष्ट्रीय योग दिवस का सन्देश "योग सबके लिए"
समृद्धि का मूल मंत्र खाद्य तेलों में स्वदेशीकरण
पतंजलि फूड्स लि. के तत्वाधान में नई दिल्ली से प्रीमियम प्रोड्क्टस हुए लॉन्च
एंटीबायोटिक जान बचाने वाले या मारने वाले?
भारत की विजयशाली परम्परा
धर्ममय राजदण्ड की स्थापना कर ही दी नरेन्द्र ने
गिलोय एक चमत्कारी औषधि
स्वास्थ्य समाचार