जनवरी
शाश्वत प्रज्ञा  योग संदेश  2015  जनवरी 

श्रद्धेय योगऋषि परम पूज्य स्वामीजी महाराज के शाश्वत प्रज्ञा से नि:सृत शाश्वत सत्य...

श्रद्धेय योगऋषि परम पूज्य स्वामीजी महाराज के शाश्वत प्रज्ञा से नि:सृत शाश्वत सत्य... दिव्य जीवन मनुष्यों के तीन प्रकार के जीवन देखने को मिलते हैं, एक निम्न कोटि का जीवन, दूसरा सामान्य क्षेणी का जीवन...
Read More...
सम्पादकीय  योग संदेश  2015  जनवरी 

दिव्य आत्माओं की खोज

दिव्य आत्माओं की खोज आचार्य बालकृष्ण
Read More...
योग संदेश  वनौषधियों में स्वास्थ्य  2015  जनवरी 

वनौषधियों में स्वास्थ्य

वनौषधियों में स्वास्थ्य आचार्य बालकृष्ण
Read More...
रोग विशेष  योग संदेश  2015  जनवरी 

शरीर को विषाणु मुक्त बनाता है 'जुकाम’

शरीर को विषाणु मुक्त बनाता है 'जुकाम’ डॉ. नागेन्द्र कुमार नीरज
Read More...
योग संदेश  योग एवं आयुर्वेद  2015  जनवरी 

जरूरत है शरीर में जठराग्रि, जीवन में प्राणाग्रि की

जरूरत है शरीर में जठराग्रि, जीवन में प्राणाग्रि की उष्मणोऽल्पबलत्वेन धातुमाद्यमपाचितम्। दुष्टमामाशयगतं रसमामं प्रचक्षते।। अन्ये दोषेभ्य एवातिदुष्टेभ्योऽन्योन्यमूर्च्छनात्। कोद्रवेभ्यो विषस्येव वदन्त्यामस्य सम्भवम्।। आमेन तेन सम्पृक्ता दोषा दूष्याश्च दूषिता:। सामा इत्युपदिश्यन्ते ये च रोगास्तदुद्भवा:।। अन्वय- उष्मण:...
Read More...
योग संदेश  सनातन वैभव  2015  जनवरी 

श्रीराम का 'विजय रथ'

श्रीराम का 'विजय रथ' डॉ. सुमन : महिला मुख्य केन्द्रीय प्रभारी, भारत स्वाभिमान व पतंजलि योगपीठ
Read More...
योग संदेश  पोषक उत्पाद  2015  जनवरी 

हृदय रोग में 'लौकी रस’ रामबाण

हृदय रोग में 'लौकी रस’ रामबाण लौकी (घीया) का रस दिन में दो बार या एक बार लगातार 6 माह लेने से हृदय की धमनियों में आये अवरोध (ब्लॉकेज) खुल...
Read More...
योग संदेश  संस्था समाचार  2015  जनवरी 

संगठन के सशक्ति करण व शुद्धिकरण के लिए निरन्तर दिव्य आरोहण

संगठन के सशक्ति करण व शुद्धिकरण के लिए निरन्तर दिव्य आरोहण राकेश कुमार : मुख्य केन्द्रीय प्रभारी, भारत स्वाभिमान
Read More...
योग संदेश  राष्ट्र निर्माण  2015  जनवरी 

अभी नहीं तो कभी नहीं

अभी नहीं तो कभी नहीं डॉ. विजय कुमार मिश्र
Read More...
योग संदेश  सनातन वैभव  2015  जनवरी 

युगीन आंदोलन को समझने के लिए चाहिए दिव्य दृष्टि

युगीन आंदोलन को समझने के लिए चाहिए दिव्य दृष्टि         गीता परमात्मा की वाणी है। संसार परमात्मा की अनुशासन व्यवस्था। जब तक लोक मानस, समाज, राष्ट्र परमात्मा के अनुशासन में जीता है...
Read More...
योग संदेश  दिव्य अनुभूति  2015  जनवरी 

अनुभूति आपकी

अनुभूति आपकी मेरी उम्र 61 वर्ष है। मैं वर्ष 2004 में आपके शिविर के दौरान पतंजलि योगपीठ से जुड़ी और 2009 में आजीवन सदस्य बनी। यहाँ...
Read More...