देश की स्वतंत्रता, स्वाभिमान एवं आत्मगौरव का प्रतीक है खादी : प्रो. महावीर अग्रवाल

देश की स्वतंत्रता, स्वाभिमान एवं आत्मगौरव का प्रतीक है खादी : प्रो. महावीर अग्रवाल

हरिद्वार, 30 अक्टूबर। भारत सरकार द्वारा 16 अक्टूबर से 31 अक्टूबर के बीच खादी महोत्सव के अन्र्तगत विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन पूरे देश में किया गया। इसी कड़ी में पतंजलि विश्वविद्यालय की एनसीसी इकाई द्वारा खादी महोत्सव का आयोजन किया गया।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में विश्वविद्यालय के यशस्वी प्रति-कुलपति डॉ. महावीर अग्रवाल ने खादी महोत्सव को सम्बोधित करते हुए कहा कि देश की स्वतंत्रता के इतिहास में खादी की महत्वपूर्ण भूमिका रही है। देश की स्वतंत्रता, स्वाभिमान, आत्मगौरव का जीवन्त प्रमाण है। भयानक विभीषिका से जूझ रहा विश्व भारत की ओर आशा की दृष्टि से देख रहा है।
कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रूप में पूज्य स्वामी परमार्थदेव जी ने खादी महोत्सव के महत्व को रेखांकित किया। उन्होंने युवाओं को संदेश देते हुए बताया कि पूज्य स्वामी रामदेव जी ने स्वदेशी को पूरे भारत में स्थापित किया। अत: हम आत्मनिर्भर बनें, खादी को अधिक-से-अधिक बढ़ावा दें तथा विदेशी वस्तुओं की चकाचौंध में खोएं।
कार्यक्रम के अन्र्तगत निबन्ध लेखन, प्रश्नोत्तरी, स्लोगन प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया, जिसमें एनसीसी के कैडेट्स ने उत्साहपूर्वक भाग लिया। सभी प्रतिभागी कैडेट्स को मेडल एवं प्रमाण पत्र भी वितरित किये गये।

36

कार्यक्रम में कुलसचिव डॉ. प्रवीण पुनिया, संकायाध्यक्ष-छात्र कल्याण डॉ. बिपिन दूबे, परीक्षा नियंत्रक प्रो. अरविन्द सिंह, योग विज्ञान संकायाध्यक्ष- डॉ. ओमनारायण तिवारी, डॉ. वैशाली गौड़, डॉ. शिल्पा, डॉ. कपिल शास्त्री, श्री सन्दीप माणिपुरी, डॉ. अंकुर, आचार्य गौतम, डॉ. भागीरथी, डॉ. अन्जू त्यागी आदि संकाय सदस्य उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संयोजन डॉ. शिव कुमार तथा संचालन डॉ. निवेदिता शर्मा ने किया।
Tags:  

Advertisment

Latest News

परम पूज्य योग-ऋषि स्वामी जी महाराज की शाश्वत प्रज्ञा से नि:सृत शाश्वत सत्य........... परम पूज्य योग-ऋषि स्वामी जी महाराज की शाश्वत प्रज्ञा से नि:सृत शाश्वत सत्य...........
ओ३म 1. भारत का सामर्थ्य - रोगमुक्त इंसान एवं रोगमुक्त जहान् और न केवल रोगमुक्त, नशा, हिंसा, घृणा, विध्वंस, युद्ध...
पतंजलि ने आयुर्वेद को सर्वांगीण, सर्वविध रूप में, सर्वव्यापी व विश्वव्यापी बनाया
नेपाल में भूकंप पीडि़तों के लिए पतंजलि बना सहारा
पतंजलि विश्वविद्यालय में 'समग्र स्वास्थ्य के लिए प्राकृतिक चिकित्सा’ विषय पर दो दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन
शास्त्रों के अनुसार राजधर्म का स्वरूप
जीवन को निरोगी एवं स्वस्थ बनायें उपवास (Fasting)
हिन्दू नृवंश के विश्वव्यापी विस्तार के संदर्भ में आवश्यक विचार
स्वास्थ्य समाचार
हिपेटाइटिस
अनुशासन : योग का प्रथम सोपान